November 28, 2020

भाजपा और एआईएडीएमके के रिश्तों में खटास के बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पहुंचे चेन्नई


BJP के पूर्व अध्यक्ष Amit Shah का चेन्नई पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया

चेन्नई:

तमिलनाडु (Tamil Nadu) में सत्तारूढ़ एआईएडीएमके (AIADMK) और सहयोगी दल BJP के बीच खटास बढ़ती जा रही है. रिश्तों में इस तनाव के बीच भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह (Amit Shah) शनिवार को चेन्नई पहुंचे. केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह का चेन्नई में भव्य स्वागत किया गया. शाह तय कार्यक्रम से इतर एयरपोर्ट के बाहर खड़े अपने समर्थकों के बीच व्यस्त सड़क पर पहुंचे, जहां कार्यकर्ताओं ने उनका भव्य स्वागत किया. तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी, उप मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम, वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष एल मुरुगन ने एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी की.

यह भी पढ़ें

शाह दो दिन के दौरे पर तमिलनाडु (Tamil Nadu) पहुंचे हैं. भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अगले साल विधानसभा चुनाव (Assembly Election)  के पहले भाजपा की रणनीति को धार देने यहां पहुंचे हैं. वे भाजपा के कार्यकर्ताओं को भी संबोधित करेंगे. अमित शाह चेन्नई में एक नए जलाशय का उद्घाटन करेंगे. साथ चेन्नई मेट्रो (Chennai Metro) के दूसरे चरण के साथ तमिलनाडु में करीब 67 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे. शाह का यह दौरा ऐसे वक्त हो रहा है, जब कई मुद्दों को लेकर सत्तारूढ़ एआईएडीएमके और उसकी सहयोगी भाजपा के बीच खटास बढ़ती दिख रही है.

गठबंधन कायम रहने की उम्मीद बरकरार

हालांकि भाजपा के सूत्रों का कहना है कि उन्हें यकीन है कि एआईएडीएमके के साथ उनका गठबंधन कायम रहेगा और क्षेत्रीय पार्टी के तौर पर एआईएडीएमके शाह की यात्रा का कोई सियासी मायने नहीं निकाल रही है. एआईएडीएमके का कहना है कि शाह सरकारी दौरे पर चेन्नई पहुंचे हैं.

Newsbeep

भाजपा की वेत्रि वेल यात्रा को लेकर उभरे मतभेद

हालिया दिनों में भाजपा और एआईएडीएम के बीच दो मुद्दों पर गहरे मतभेद उभर कर सामने आए हैं. इसमें भाजपा की हालिया वेत्रि वेल यात्रा और भाजपा द्वारा प्रचार अभियान के वीडियो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एआईएडीएमके संस्थापक एमजी रामचंद्रन का इस्तेमाल करना है. भाजपा की वेत्रि वेल यात्रा 6 नवंबर से 6 दिसंबर तक आयोजित होनी थी, यह भगवान मुरुगा के सम्मान में राज्य भर में निकाली जाने वाली शोभा यात्रा थी.

जयललिता और करुणानिधि के निधन के बाद पहला चुनाव

एआईएडीएमके सरकार ने कोविड-19 को देखते हुए यह यात्रा निकालने की अनुमति नहीं दी. लेकिन भाजपा ने कहा कि यह उसकी सालाना यात्रा और कुछ दलों के हिन्दू विरोधी एजेंडे के कारण इसे रोका जा रहा है. फिर भाजपा के प्रचार वीडियो में एमजीआर के चेहरे के इस्तेमाल से एआईएडीएमके नाखुश दिखी. तमिलनाडु में छह माह के भीतर चुनाव हैं. राज्य के दो दिग्गज नेता जयललिता और डीएमके के करुणानिधि के निधन के बाद यह पहला विधानसभा चुनाव है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Leave a Comment