April 14, 2021

डॉ. प्रणॉय राय की भारतीय इकोनॉमी को लेकर विशेषज्ञों के साथ बातचीत : खास बातें..


नई दिल्‍ली:

कोरोना महामारी के दौर के बजट के बाद अब आगे क्‍या? भारत किस ओर बढ़ रहा है? देश आखिर किस तरह विकास की राह को वापस हासिल करेगा? चार हिस्‍सों के Townhall के पहले हिस्‍से में डॉ. प्रणॉय राय (Prannoy Roy) ने दुनिया के शीर्ष विशेषज्ञों के साथ इन सवालों पर चर्चा की. इन विशेषज्ञों में चार नोबल अवार्ड विजेता शामिल हैं. जानिए पॉल मिलग्रॉम, अभिजीत बनर्जी, माइकल क्रेमर, रघुराम राजन, कौशिक बसु और अमर्त्‍य सेन की कोरोना के बाद की दुनिया के बारे में क्‍या राय है… 

यह भी पढ़ें

637504023678441610कोरोना महामारी के बाद भारत की 2021 में वापसी दूसरे विकासशील देशों में सबसे अच्‍छी रही है

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन (Prof Raghuram Rajan) का मानना है कि यदि कोरोना वायरस का प्रभाव कम रहा तो भारत के लिए यह साल बेहतरीन साबित होगा, यह देश के लिए एक तरह से वापसी (Rebound) का वर्ष होगा. यह सही बात है कि हम उस स्थिति तक नहीं पहुंच पाएंगे जहां कोरोना महामारी की शुरुआत के पहले थे लेकिन निश्चित रूप से पिछले साल हमने जो गंवाया था, उसे काफी हद तक पाने में कामयाब रहेंगे. सवाल यह उठता है कि इसके बाद क्‍या होगा? वर्ष 2022, 2023 और 2024 में क्‍या होगा और कई लोगों को लगता है कि हमारी विकास दर 4 or 5% से भी कम हो जाएगी जो कोरोना महामारी के पहले थी. भारत के लिए अच्‍छी स्थिति नहीं कही जा सकती क्‍योंकि देश को रोजगार और विकास की काफी जरूरत है. 





Source link

Leave a Comment